October 31, 2009

प्यार

प्यार का इजहार करू

इतना मै खुश नशीब कहा

प्यार का इंकार करू

इतना मै बद नशीब कहा।


इजहार करू या न करू

इंकार करू या न करू

प्यार तो प्यार ही रहेगा।


1 comment:

संजय भास्कर said...

सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।