October 7, 2009

इंसानियत

आज सुबह जब मै बाइक पर ऑफिस जा रहा था तो सिग्नल पर मैंने देखा एक बुढा आदमी रास्ता क्रोस कराने में खड़ा था। शायद उसे गाडियो की आवाज ने उसे चौकन्ना कर दिया था। सुना है की ऐसे लोगो को सिक्स्थ सेंस अच्छी देता है। आख़िर उसे सब की चिंता जो होती काश काश काश। खैर, जैसे ही सिग्नल हरा हुआ वहा तैनात ट्राफिक पुलिस ने उस बुढे का हाथ पकड़कर उसे रास्ता क्रोस करवाया। वह आदमी दोनों आखो से अँधा था। मुजे उस आदमी पर तरस आया पर उस पुलिस वाले पर नाज़ हुआ की उसने इंसानियत दिखाई। काश सबको उपरवाला समझदारीसे जिना सिखाये।

No comments: