April 30, 2010

मुझे मत सताओ

(दोस्तों मेरी दि ११/०८/१९९६ को लिखी एक कवीता यहाँ आपकी खिदमत में पेश कर रहा हुंअच्छी लगे तो अपनीप्रतिक्रियाये जरुर देनामुझे अच्छा लगेगाऔर इससे लिखने वलेका हौसला भी बढ़ता हैआभार! )


मुझे मत सताओं दुनियावालों
मै पहले से ही बहुत परेशाँ हूँ
ज़िन्दगी से हैराँ हूँ
मुझे ही क्यों मिले है ये सारे ग़म
क्याँ अब भी बाक़ी है देना
मुझे कुछ सितम
क्याँ भर डालोगे मेरी झोली
इन गमों से
मत परेशाँ करो मूझे
दुनियावालों मै पहले से ही परेशाँ हूँ
ज़िन्दगी से हैराँ हूँ

7 comments:

देव कुमार झा said...

ऐ दुनियावालो मै पहले से ही परेशान हुं
जिंदगी से हैरान हुं

बहुत खूब.. प्रभू किसी लम्बी यात्रा पर निकल जाएं...

संजय भास्कर said...

दिल को छू रही है यह कविता .......... सत्य की बेहद करीब है ..........

संजय भास्कर said...

ऐ दुनियावालो मै पहले से ही परेशान हुं
जिंदगी से हैरान हुं.

bahut khoob likha hai ravi ji

Ravindra Ravi said...

शुक्रिया देव कुमारजी!!

Ravindra Ravi said...

संजयजी! जिंदगी का सत्य यही है.

कविता रावत said...

मुझे मत सताओ ऐ दुनियावालो
मै पहले से ही बहुत परेशान हुं
..... Ya aadat duniya ki bahut purani hai..... Bus esse jaldi bahar nikalne mein hi bhalai hoti hai... varna log aur dukhi banane mein koi kor kasar nahi nikalte..
Haardik shubhkamnayne...

Ravindra Ravi said...

कवीताजी, शुक्रिया.