April 18, 2010

तन्हाई


तरसता रहा जिंदगी भर
एक हमसफर मील जाये
साथ निभाने को,
मगर मिल न सका कोई
राहगुजर
मिटाने इस तन्हाई को।

2 comments:

Suman said...

nice

Ravindra Ravi said...

धन्यवाद सुमनजी !!!