February 27, 2011

इंतज़ार



मुझको इंतज़ार है
दिल भी बेक़रार है
वो घडी जल्द ही आएगी
जिससे मुझको प्यार है.

6 comments:

***Punam*** said...

छोटी सुन्दर रचना..

पहलेवाली भी बहुत अच्छी है

समय आभाव के कारण देर से पढ़ सकी हूँ..

और इसी कविता के साथ उसकी भी तारीफ कर रही हूँ....!!

शिवकुमार ( शिवा) said...

बहुत सुंदर रचना .. बाधाई

Ravindra Ravi said...

धन्यवाद पुनमजी, धन्यवाद शिवकुमारजी!

V!Vs said...

:)
mujhe to har ghadi intezaar h.......

Anuja Khaire said...

very nice!

Ravindra Ravi said...

Thank You Anujaji!