November 30, 2009

जिंदगी

जिंदगी क्या है, पूछना चाहते हो,
देखो
एक कंकड़ पानी के समाव में डाल दो,
उसके आस पास लहरे उठेगी,
बस यही है जिंदगी,
उतर चढाव है जिंदगी के
जो जमन होते ही घेर लेते है,
अंत में छोटे है उसे।

4 comments:

Playboy said...

kahne ko acha lagta hai jindgi ka falsafa par jindgi to jindgi hai jo hai bas jine ke liye. Apko jaam mila pine ke liye hame mili sarab hoton ko sine ke liye.

Ravindra Ravi said...

Dhanyavad!!!

संजय भास्कर said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

Ravindra Ravi said...

शुक्रिया संजयजी!!!