November 10, 2009

शराब

शराब के भी रंग होते है.
पीने के भी ढंग होते है.
एक
जो गम को भुला देती है
दुसरी
जो बेचैन कर देती है.

No comments: