December 13, 2009

इंतजार

रात अभी बाकी है,
तीसरी पहर है यह,
अब भी वक्त है ,
आ जाओ मीना
आ जाओ।
मै अभी भी तुम्हारा इंतजार कर रहा हु,
अभी भी समय है,
वरन
सुबह हो जाएगी,
और उजाले की सफेद चादर मेरे शरीर पर पड़ जाएगी।
मेरा जनाजा निकलेगा,
यह सुबह मेरा कफन बनकर आएगी,
जल्दी करो,
मै तुम्हारे इंतजार में हु,
मीना आओ
आओ मीना आ जाओ!


दोस्तों यदि आप मेरी इस कविता को मेरी ही आवाज में सुनना चाहते है तो निचे दिए व्हीडीओ पर क्लिक करे.


video

2 comments:

Anonymous said...

Apki Kavita padi aur kafi acchhi lagi. Aur bhi acchha laga, jis dhang se apne blog ko maintain kiya hai. Apki baaki kavitaon ko bhi thoda-thoda pada. Bahut acchhi hain.

Waise thosa Bahut main bhi likhna suru kiya hai. Waqt ho to jaroor aayiyega.
Prabhat Sardwal

prabhatsardwal.blogspot.com

Ravindra Ravi said...

Aapaka blog bhi padhakar aanand hua. Bas mere jaise addict na ho yahi iswar se prarthana.