December 2, 2008

वक्त से पहले


कली हो तुम अभी बगियन की
बालों पे सजना ठीक नहीं है।
पंखुड़ियाँ खिली नहीं है अभी तुम्हारी,
यूँ खिल कर हँसना ठीक नहीं है।
भौरे बडे बेवफ़ा होते हैं,
यूँ उनसे बेख़बर रहना ठीक नहीं हैं।
इन काली घटाओं में दहकता सूरज,
और उसपर ये चन्दन-बन ठीक नहीं हैं।
नयनों को प्रतीक्षा में बिछा दो वक्त की,
यूँ लम्बे डग भरकर चलना ठीक नहीं हैं।
आशाओं को बांधो ख्वाबों से,
यूँ निराशा में जीना ठीक नहीं हैं।
कुचल देते हैं भौरे खिलती हुई कलियाँ,
यूँ वक्त से पहले खिलना ठीक नहीं हैं।
लुट जाते हैं कुछ लोग कुछ लुटे जाते हैं,
इससे बेख़बर रहना ठीक नहीं हैं।

"रविन्द्र रवि" (१९-५-१९८०)


2 comments:

Pranjal said...

kuch pal
haseen....
raat ke sannate ko chirte...
chandani se dur ...
bhor ki naee ragini chedte..
dikhe the muze kal...
han tabhi jab wo nanhi si kali ne dhire se hans diya tha...
mere dar par...
aur mai fir se chal pari thi..
ek naee khushboo lekar bantne....

Ravi ji... kya kahun.. aapne itani badi baat kah di ki aapki beti ka naam b pranjal hi hai.. achha laga dhanyawad...
abi maine apna graduation complete kar liya hai.. aur hamare desh me graduate ladkiyan bachhi to nahi rah jatin... lekin aap logon ne mujhe pahli bar me hi jo sneh aur aadar diya hai use bachhon ki tarah aakul hokar donon hathon se sametane me lagi hun...
aapse path pradarshan ki ummid hai...
dhanyawad.!

Ravindra Ravi said...

thanks pranjal
itani kam umra mai aap bahut hi achcha likh leti ho, bada aanand hua. muze bhi bachpan se hi kavita likhane ka shouk hai. bich mai kam aur jindagi mai itana ulaza gaya ki kich soch hi na saka. Meri beti ne muze blog ki rah dikh di hai ab mai marathi aur hindi blog likh leta hu.

Dhanyavad